कश्मीर में अबतक 500 से ज़्यादा विरोध प्रदर्शन, 4000 को हिरासत में लिया गया

0

नयी दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में धारा 377 और 35a को भारतीय केंद्र सरकार द्वारा हटाये हुए 25 दिन हो चुके हैं, और लगभग इतने ही समय से घाटी में भारी मात्र में सुरक्षा बल की तैनाती के कारण कश्मीर का बाक़ी भारत से राबता टूटा हुआ है. इसी के चलते देश विदेश की मीडिया कश्मीर से जुडी हर एक खबर पर पैनी नज़र बनाये हुए है.

इसी क्रम में, मशहूर न्यूज वेबसाइट अल जजीरा ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि, आर्टिकल-370 हटने के बाद से अब तक घाटी में कम से कम 500 विरोध प्रदर्शन की घटनाएं घटी हैं. साथ ही पूरे इलाके में आर्मी दबदबा बनाए हुए है.

अल जजीरा में छपी खबर के अनुसार एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि धारा 370 हटाये जाने के बाद से भारतीय प्रशासित कश्मीर में कम से कम 500 घटनाएं हुई हैं और वहां सैन्य क्लैंपडाउन लागू किया गया है।

आपको बता दें कि, न्यूज़ वेबसाइट पर विरोध प्रदर्शनों के दौरान आम लोगों को हिरासत में लिए जाने की खबरें सुर्खियों में हैं. लेकिन  सरकार इन सभी मीडिया रिपोर्ट्स को लगातार सिरे से खारिज कर रही है.

अधिकारी के मुताबिक घाटी में अब तक हुए विरोध प्रदर्शनों में लगभग 100 नागरिक घायल हो चुके हैं, तथा 300 से अधिक पुलिस और 100 से अधिक अर्धसैनिक बल के जवानों को भी चोट लगी है.

अधिकारी ने एएफपी को ये भी बताया है कि, “विरोध प्रदर्शनों की संख्या बिना बल की तेनाती के और भी अधिक और बड़ी हो सकती है,”.

उन्होंने बताया है कि “कश्मीर में क्रोध और सार्वजनिक अवहेलना लगातार बढ़ रही है”. साथ ही आगे कहा कि “स्थितियों को आसान बनाने के प्रयास हर समय किए जाते हैं, लेकिन अभी तक वहां कुछ भी काम नहीं करा है।

अधिकारी के मुताबिक उन्होंने कहा कि, कश्मीर में संचार ब्लैकआउट का मतलब ये है ​​कि सुरक्षा बल तक भी ग्रामीण क्षेत्रों के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

सुरक्षा और सरकारी सूत्रों ने पिछले हफ्ते एएफपी को बताया कि, घाटी भर में कम से कम 4,000 लोगों को अब  हिरासत में लिया गया है, जिसमें व्यवसायी, शिक्षाविद, कार्यकर्ता और स्थानीय राजनेता शामिल हैं, साथ ही तब से अब तक कुछ को छोड़ दिया गया है.

एक अन्य वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने एएफपी को बताया कि कम से कम 1,350 प्रदर्शनकारियों (जिन्हें पुलिस ने “पत्थरबाज” के रूप में चिन्हित किया है) को 5 अगस्त को गिरफ्तार किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here