मिर्ज़ा शिबली बेग नयी दिल्ली: मध्य नवंबर में ईरान की सरकार की तरफ से ईंधन तेल की की़मतों में वृद्धि और ख़रीद की सीमा तय करने के ऐलान के बाद से देशभर में विरोध प्रदर्शनों का दौर शुरू हो गया है । सरकार की तरफ से प्रति व्यक्ति 60 लीटर तेल...
एस एम अनवर हुसैन दूसरे दिन जब मैंने कहा कि श्री असदुद्दीन ओवैसी ने खुद को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) की देखरेख में रखना चाहिए, तो मैं मजाक नहीं कर रहा था। मैं इसे लेकर गंभीर था। श्री ओवैसी एक मंझे हुए सांसद हैं, लेकिन वे एक अच्छे रणनीतिकार...
- राम पुनियानी भाजपा एक नहीं बल्कि अनेक मायनों में ‘पार्टी विथ अ डिफरेंस’ है. वह देश की एकमात्र ऐसा बड़ी राजनैतिक पार्टी है जो भारतीय संविधान में निहित प्रजातंत्र और धर्मनिरपेक्षता के मूल्यों के बावजूद यह मानती है कि भारत एक हिन्दू राष्ट्र है....
खुर्रम मलिक जैसा की आप जानते ही होंगे की गूगल कुछ खास मौक़ो पर ही अपना डूडल जारी करता है। आज से ठीक दो साल पहले आज की ही तारीख़ को मतलब 1 नवम्बर 2017 को गूगल ने अपना डूडल अब्दुल क़वी देसनवी को समर्पित किया था,...
देश के 49 प्रमुख नागरिकों, जिनमें फिल्मी हस्तियां, लेखक और इतिहासविद् शामिल हैं, ने कुछ समय पूर्व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को खुला पत्र लिखकर, देश में दलितों के खिलाफ अत्याचार व माब लिंचिंग की घटनाओं में बढ़ोत्तरी और ‘जय श्रीराम‘ के नारे का एक विशेष धर्म के लोगों को...
कश्मीर मे पंडित अपने कट्टर जातिवाद के चलते वहाँ के मुसलमानों से तो भेदभाव, हीनभाव व छुआछूत रखते थे, पर सिक्ख, ईसाई, दलित ओर ओबीसी से भी उतनी ही मात्रा मे हीनभाव रखते थे। इसके चलते जब कश्मीर मे आतंकवाद ने दस्तक दी...
रवीश कुमार अर्थव्यवस्था के आकार के मामले में भारत का स्थान फिसल गया है। 2018 में भारत पांचवे नंबर पर आ गया था अब फिर से सातवें नंबर पर आ गया है। 31 जुलाई के बिजनेस स्टैंडर्ड में ख़बर छपी है कि 2018 में भारत ने ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे...
-राम पुनियानी संयुक्त राष्ट्रसंघ मानवाधिकार परिषद् की 17वीं बैठक में, भारत में मुसलमानों और दलितों के विरुद्ध नफरत-जनित अपराधों और मॉब लिंचिंग का मुद्दा उठाया गया। यद्यपि प्रधानमंत्री मोदी का यह दावा है कि अल्पसंख्यकों को सुरक्षा प्रदान की जाएगी तथापि लिंचिंग की घटनाओं में वृद्धि हो रही है। झारखंड में तबरेज़...
लेखकः बसंत रावत, कौसरअली सैयद, संदीप पाण्डेय भारत के मुस्लिम एक वंचित समुदाय हैं जिनका दुनिया के सबसे बड़े संसदीय लोकतंत्र में प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व ही है। जबकि 2011 की जनगणना के मुताबिक 17.22 करोड़ आबादी व जनसंख्या का 14.2 प्रतिशत होते हुए वे भारत के सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय हैं। किसी...
अभिनव भारत में फ़ासीवाद का इतिहास लगभग उतना ही पुराना है जितना कि जर्मनी और इटली में। जर्मनी और इटली में फ़ासीवादी पार्टियाँ 1910 के दशक के अन्त या 1920 के दशक की शुरुआत में बनीं। भारत में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना 1925 में नागपुर में विजयदशमी के दिन...