मालेगांव बम धमाका मामला: प्रज्ञा ठाकुर हैं मामले से अनजान

0

भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर शुक्रवार को 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले के सिलसिले में मुंबई की एक विशेष अदालत के समक्ष पेश हुईं. इस सप्ताह वह अदालत के सामने दो बार हाजिर नहीं हो सकीं थीं.

जब एनआईए की विशेष अदालत के न्यायाधीश वीएस पडालकर ने भगवाधारी ठाकुर से पूछा कि धमाके के बारे में उन्हें कुछ कहना है तो उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं पता.’

दरअसल, प्रज्ञा सिंह ठाकुर मालेगांव बम धमाकों की आरोपी हैं और ये केस मुंबई की एनआईए कोर्ट में अभी चल रहा है. अप्रैल 2017 में साध्वी प्रज्ञा को 9 साल कैद में रहने के बाद सशर्त जमानत दी गई थी. 3 जून को एनआईए कोर्ट ने प्रज्ञा सिंह ठाकुर को हर हफ्ते पेश होने का आदेश दिया था. इसके तहत प्रज्ञा को 7 जून तक कोर्ट के सामने पेश होना था.

वही बुधवार की रात खबर आई की साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को तेज कमर दर्द और हाई ब्लड प्रेशर हो गया और वो अस्पताल में भर्ती हो गईं. उधर, साध्वी प्रज्ञा के वकील जेपी मिश्रा ने एनआईए अदालत में अर्जी लगा दी कि साध्वी बीमारी की वजह से पेश नहीं हो सकतीं.

हालांकि बीमारियों के चलते अस्पताल में भर्ती होने का हवाला देकर अदालत में पेशी से छूट पाने के बाद गुरुवार दोपहर को प्रज्ञा ठाकुर भोपाल के एक सार्वजनिक कार्यक्रम में नज़र आई थीं. इससे पहले बुधवार शाम को ईद के मौके पर स्थानीय भाजपा नेताओं के साथ भोपाल शहर के काज़ी सैयद मुश्ताक अली नदवी के घर भी पहुंचीं थीं

हालांकि विशेष अदालत ने सोमवार को ठाकुर की उस याचिका को खारिज कर दिया था जिसमें उन्होंने इस हफ्ते पेशी से छूट की मांग की थी.

बताते चलें कि पुलिस के अनुसार, मोटरसाइकिल प्रज्ञा ठाकुर के नाम से पंजीकृत थी ओर इसी आधार पर उनकी 2008 में गिरफ्तारी हुई. बॉम्बे उच्च न्यायालय ने उन्हें 2017 में जमानत दे दी थी. प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण कानून (मकोका) के तहत लगे आरोप तो हटा दिए लेकिन उन पर गैरकानूनी गतिविधियां (नियंत्रण) कानून (यूएपीए) और अन्य तत्संबंधी कानूनों के तहत मामला चल रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here