मुस्लिम दोस्त ने आखिरी समय तक नहीं छोड़ा हिन्दू दोस्त का साथ

1

 

भोपाल: देश में कोरोना संकट के बीच ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जहां लोग अपनों को छोड़कर जा रहे हैं. वहीं, मध्य प्रदेश के शिवपुरी में दोस्ती और इंसानियत की मिसाल देखने को मिली. यहां एक दोस्त ने अंतिम समय तक दोस्ती का फर्ज निभाया. दरअसल, 24 साल का एक युवक कुछ अन्य प्रवासियों के साथ गुजरात से उत्तर प्रदेश के लिए ट्रक में सवार होकर निकला था. रास्ते में अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई, जिसके बाद ट्रक के ड्राइवर ने उसे मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में उतार दिया. इस दौरान, उसका दोस्त याकूब भी ट्रक से उतर गया. वह सड़क के किनारे अपने दोस्त अमृत को गोद में लेकर लोगों से मदद की गुहार लगाता रहा.

इस घटना की तस्वीर और वीडियो सामने आई है, जिसमें याकूब अपने दोस्त अमृत को बचाने के लिए लोगों से मदद मांग रहा है लेकिन यह कोई दृश्य देखकर भी लोग रुके नहीं. हालांकि, बाद में अमृत को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां शनिवार को उसने दम तोड़ दिया.

जिला अस्पताल में मौजूद याकूब मोहम्मद (23) पुत्र मोहम्मद युनुस ने NBT को  बताया कि हम दोनों गुजरात के सूरत स्थित फैक्ट्री में मशीन से कपड़ा बुनने का काम करते थे। लॉकडाउन के कारण फैक्ट्री बंद हो गई। सूरत से ट्रक में 4-4 हजार रुपये किराया देकर नासिक, इंदौर होते हुए कानपुर लौट रहे थे। सफर के दौरान अचानक अमृत की हालत बिगड़ गई। अमृत को तेज बुखार आया और उल्टी जैसी स्थित बनने लगी, हालांकि उल्टियां नहीं हुईं। ट्रक में बैठे 55-60 लोग विरोध करने लगे और अमृत को उतारने की जिद करने लगे। ट्रकवाले ने अमृत को उतार दिया तो अमृत का ख्याल रखने के लिए मैं भी उतर गया।

जब ट्रकवाले ने अमृत को ट्रक से उतारा तो याकूब ने उसका साथ नहीं छोड़ा और खुद भी ट्रक से उतर गया। अमृत बेहोशी की हालत में था। दोस्त को ऐसी हालत में देखते हुए याकूब ने कोरोना के डर के बावजूद अमृत का हाथ थामा और उसका सिर अपनी गोद में रख लिया। लोगों ने उसे देखा तो उसकी मदद की। लोगों की मदद से अमृत को लेकर याकूब  जिला अस्पताल तक पहुंचा। अमृत की गंभीर हालत देखते हुए डॉक्टरों ने उसे तुरंत वेंटीलेटर पर रखा, लेकिन इलाज के दौरान अमृत ने दम तोड़ दिया।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here